Home Blog Page 3

Zerodha में कैसे लगाते है StopLoss

0

हेलो दोस्तों अगर आप शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करते हैं तो आपने स्टॉप लॉस के बारे में जरूर   सुना होगा लेकिन कई लोगों को यह पता नहीं  होगा  कि   इसे यूज कैसे करते हैं|


Stop Loss क्या होता है?


शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करते समय होने वाले नुकसान को सीमित करने के लिए स्टॉप लॉस का प्रयोग किया जाता है, मार्केट में अचानक आने वाले बड़े-बड़े उतार चढ़ाव से स्टॉप लॉस हमारा बड़ा नुकसान होने से बचाता है इसीलिए अक्सर प्रोफेशनल ट्रेडर ट्रेडिंग करते वक्त स्टॉप  लॉस का प्रयोग है


आज के इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे के  जीरोधा(ZERODHA ) मैं स्टॉप लॉस कैसे लगाते हैं ।
डीमैट खाता खोलने कि लिए यह क्लिक करे 

Types of Stop Loss |  स्टॉप लॉस के प्रकार

 

स्टॉप लॉस दो प्रकार के होते हैं

  • स्टॉप लॉस मार्केट
  • स्टॉप लॉस लिमिट

स्टॉप लॉस लिमिट | Stop Loss Limit

 

स्टॉप लॉस लिमिट में एक ट्रिगर प्राइस डालना होता है और एक लिमिट प्राइस डालना   होता है जैसे ही  स्टॉक का प्राइस  ट्रिगर प्राइस पर पहुंचता है तुरंत ही लिमिट प्राइस पर ऑर्डर एग्जीक्यूट हो जाता है ।

Stop Loss Limit
Stop Loss Limit

स्टॉप लॉस मार्केट | Stop Loss Market

 

स्टॉप लॉस मार्केट में  सिर्फ एक ट्रिगर प्राइस डालना होता है जैसे ही टॉप का प्राइस ट्रिगर प्राइस कर पहुंचता है तुरंत ही ऑर्डर मार्केट प्राइस पर एग्जीक्यूट हो जाता है ।लेकिन कई बार  मार्केट में बड़ा   उतार चढ़ाव  आने पर मार्केट प्राइस बहुत तेजी से बदलता है और स्टॉप लॉस में भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है।

Stop Loss Market

अधिक जानकारी के लिए कॉमेंट कर सकते है

बैंक जा कर जल्दी करे ये काम वरना देना पड़ेगा भारी टैक्स | FORM 15G | FORM 15H

0

बैंक जा कर जल्दी करे ये काम वरना देना पड़ेगा भारी टैक्स

 

अगर आप भी बैंक में फ़िक्स डिपॉज़िट रखते है और फ़िक्स डिपॉज़िट से सालाना 40000 रुपए से ज़्यादा कमाते है तो फिर आपको मिलने वाले ब्याज से बैंक 20% से 10 % तक TDS काट सकते है।

क्या है TDS 

जब किसी भी आय से मिलने कि पहले ही TAX काट लिया जाता है तो उससे TDS यानी की TAX DEDUCTION AT SOURCE कहते है।

कब कटता  है TDS 

वैसे तो TDS बहुत सी जगह कटता है लेकिन यहाँ हम सिर्फ़ FD यानी फ़िक्स डिपॉज़िट के बारे में बात करेंगे,

किसी भी एक फ़ायनैन्शल साल अगर आपको ₹ 40000/- से ज़्यादा की कमायी FD के ब्याज से होती है तो आप TDS के दायरे में आजाएँगे वैसे वरिष्ट  नागरिकों के लिए ये सीमा ₹50000/-तक है।

उदाहरण के लिए मान लेते है की रमेश की ₹1,00,000/- की FD है और उसे 10%ब्याज मिलता है तो उससे एक साल में ₹10,000/- ब्याज के तौर पर मिलेंगे जोकी ₹40,000/- से कम है तो उसका TDS नहीं कटेगा।

अब मान लेते है की सुरेश की ₹5,00,000/- की FD है और उसे 10%ब्याज मिलता है तो उससे एक साल में ₹50,000/- ब्याज के तौर पर मिलेंगे जोकी ₹40,000/- से ज़्यादा है तो उसका TDS  10% के हिसाब से कटेगा यानी उसके ₹5,000/- TDS के तौर पर कैट जाएँगे।

 

TDS कटने से कैसे बचाए

 

TDS से बचनेके लिए हमें हर साल अप्रैल के महीने बैंक को अपना 15G/H फ़ॉर्म  देना पड़ता है इस फ़ॉर्म में हम ये घोषणा करते है की हमारी सालाना आय टैक्सबल सीमा यानी ₹2,50,000 से कम है,ये काम आप घर बैठे ऑनलाइन बैंकिंग के द्वारा भी कर सकते है या फिर अपनी निकटम ब्रांच में जाकर भी जमा कर सकते है

TDS कटने के बाद क्या करना पड़ेगा

यदि आप समय से अपना 15 G/H फ़ॉर्म बैंक में सौबमिट नहीं कर पाए और आपक TDS कैट गया है तो भी आँको परेसान होने की आवश्यकता नहीं है। यदि टैक्स सीमा में नहीं आते तो आप अपना ITR भर के अपने पैसे सरकार से वापस ले सकते है लेकिन इसके लिए आपके खाते में पैन कार्ड अवश्य लगा होना चाहिए ।

15G भरने की आख़री date  क्या है?

वैसे आप 15G फ़ॉर्म  कभी भी बैंक जाकर जमा कर सकते है इसे जमा करने कि बाद आपका TDS नहीं  कटेगा लेकिन अगर आप वित्तीय वर्ष शुरू होने के साथ ही इससे भर देते है तो आप TDS से बच सकते है।

JFL Life Sciences Limited IPO 2022 in Hindi

0

JFL Life Sciences Limited IPO 2022

[ads1]

JFL Life Sciences Limited फार्मास्युटिकल उत्पादों के निर्माण के कारोबार में लगी हुई है। कंपनी के उत्पाद पोर्टफोलियो में ड्राई पाउडर इंजेक्शन (बी-लैक्टम), टैबलेट और कैप्सूल (बी-लैक्टम) सॉलिड ओरल डोज़ फॉर्म और टैबलेट और कैप्सूल (सामान्य) सॉलिड ओरल डोज़ फॉर्म और ओरल रिहाइड्रेशन सॉल्यूशंस (ओआरएस) शामिल हैं।

कंपनी की बिक्री रणनीति फार्मास्युटिकल विपणक और व्यापारियों को थोक में उत्पादों को बेचने की है जो बदले में ग्राहकों को बिक्री के लिए चैनल प्रदान करते हैं। जेएफएल लाइफ साइंसेज लिमिटेड की पूरे भारत में बाजार में उपस्थिति है और जेएफएल के उत्पादों की आपूर्ति दुनिया भर के 10 विकसित और विकासशील देशों में की जाती है।

[ads2]

Keypoints of JFL Life Sciences Limited IPO 2022

  • उत्पाद पंजीकरण
  • अनुभवी प्रबंधन और समर्पित कर्मचारी
  • आधार गुणवत्ता आश्वासन
  • गुणवत्ता औरब्रांड ताकत

Company Financials

Period Ended Total Assets Total Revenue Profit After Tax Net Worth Reserves and Surplus
31-Aug-19 1614.96 3177.96 30.25 501.49 459.2
31-Mar-20 2432.59 3020.41 36.04 537.53 495.24
31-Mar-21 2900.69 3286.89 54.21 687.25 637.55
28-Feb-22 3662.86 2563.06 253.28 1096.52 294.48
Amount in ₹ Lakhs

JFL Life Sciences IPO 2022 Details | जेएफएल लाइफ साइंसेज आईपीओ 2022 विवरण

JFL Life Sciences IPO Date Aug 25, 2022 to Aug 30, 2022
JFL Life Sciences IPO Face Value ₹10 per share
JFL Life Sciences IPO Price ₹61 per share
JFL Life Sciences IPO Lot Size 2000 Shares
Issue Size 2,978,000 shares of ₹10
(aggregating up to ₹18.17 Cr)
Fresh Issue 2,978,000 shares of ₹10
(aggregating up to ₹18.17 Cr)
Issue Type Fixed Price Issue IPO
Listing At NSE SME
Retail Shares Offered 50% of the net offer
NII (HNI) Shares Offered 50% of the net offer

IPO Review of JFL Life Sciences Pvt Ltd

कंपनी फार्मा क्षेत्र में है और पहले ही अपनी उत्पाद श्रृंखलाओं के लिए एक अतिरिक्त सुविधा तैयार कर चुकी है और वैश्विक बाजारों के लिए आवश्यक प्रमाणपत्र हाथ में है। महामारी और विस्तार के लिए जोर के कारण, इसने स्थिर शीर्ष लाइनें पोस्ट कीं, लेकिन कुछ उत्पादों के लिए उच्च मार्जिन प्राप्त करने में कामयाब रही। यह अब मांग का लाभ उठाने के लिए अतिरिक्त क्षमताओं के साथ तैयार है। फार्मा क्षेत्र के काउंटरों के लिए फैंसी को ध्यान में रखते हुए, निवेशक इस पूरी तरह से कीमत वाले मुद्दे में मध्यम से दीर्घकालिक परिप्रेक्ष्य में निवेश पर विचार कर सकते हैं।

म्यूचुअल फंड | What is Mutual Fund | म्यूच्यूअल फंड क्या है? हिंदी में

0

म्यूचुअल फंड (Mutual fund)  एक प्रकार का सामुहिक निवेश होता है। निवेशकों के समूह मिल कर स्टॉक, अल्प अविधि के निवेश या अन्य प्रतिभूतियों (सेक्यूरीटीज) मे निवेश करते है।। यूटीआई एएमसी भारत की सबसे पुरानी म्यूचुअल फंड कंपनी है।

म्यूचुअल फ़ंड व्यावसायिक रूप से प्रबंध किया गया सामूहिक निवेश योजना है जो अनेक निवेशकों से धनराशि को एकत्रित करता है और स्टॉक्स, बॉन्ड, शॉर्ट – टर्म मनी मार्केट लिखतों, और / या अन्य प्रतिभूतियों में निवेश करता है।

कम रिस्क में अच्छे मुनाफे के लिए म्यूचुअल फंड निवेश का एक बेहतरीन विकल्प है. इस समय बाजार में निवेश के तमाम विकल्पों में से म्यूचुअल फंड्स ही अच्छा और टिकाऊ रिटर्न दे रहे हैं. यही वजह है कि बड़ी तादाद में निवेशक म्यूचुअल फंड की तरफ आकर्षित हो रहे हैं

म्यूचुअल फ़ंड में निवेश के लाभ

  • लचीलापन (Flexibility)- म्यूचुअल फ़ंड निवेश लचीलेपन के साथ सुव्यवस्थित निवेश प्लान, सुव्यवस्थित आहरण प्लान एवं लाभांश पुनर्निवेश विशेषताएँ प्रदान करता है..
  • खर्च करने की क्षमता – ये इकाई में उपलब्ध है अतः आसानी से खर्च कर सकते है. बड़े कॉर्पस के कारण छोटा निवेशक भी निवेश रणनीति से लाभान्वित हो सकता है.
  • तरलता (Liquidity)- असीमित अवधि वाली योजनाओं में आपके पास विकल्प है कि किसी भी समय चालू एनएवी पर धनराशि को आहरित या रीडिम (पुनः प्राप्त करना) कर सकते है.
  • विविधता (Diversification)- म्यूचुअल फ़ंड से जोखिम का भार कम हो जाता है चूंकि वे विभिन्न उद्योग एवं स्टॉक में निवेश करते है.
  • व्यावसायिक प्रबंधन (Professional Management)– म्यूचुअल फ़ंड के निपुण फ़ंड प्रबंधक अनुभव एवं शोध के आधार पर सभी विकल्पों का मूल्यांकन करते है.
  • प्रतिलाभ की संभावना – फ़ंड प्रबंधक जो आपके म्यूचुअल फ़ंड का ध्यान रखते है अतः उनके पास विश्व के प्रमुख अर्थशास्त्री एवं विश्लेषक से जानकारी एवं आंकड़ें प्राप्त रहते है. परिणाम स्वरूप एकल निवेशकों के बजाय इनके पास आपके निवेश को विकसित करने के लिए बेहतर सुअवसर उपलब्ध है.
  • कम लागत(Low cost) – ब्रोकरेज़, कस्टोडियल और अन्य शुल्क में लाभ से निवेशकों का लागत कम होगा.

म्यूचुअल फंड के प्रकार | Types of Mutual Funds

म्यूचुअल फंड की इक्विटी योजना में इंडेक्स फंड, डायवर्सिफाइड फंड, लार्ज-कैप फंड, मिड-कैप स्कीम और कर-बचाव योजना (टैक्स सेविंग स्कीम) जैसे बहुत से विकल्प उपलब्ध होते हैं। निवेशक निवेश के उद्देश्यों और लक्ष्य पर सही बैठने वाली योजना चुन सकते हैं।

Index Fund

जो निवेशक किसी विशेष शेयर के लिए कॉल नहीं चाहते वे सूचकांक आधारित योजना यानि इंडेक्स स्कीम में निवेश कर सकते हैं क्योंकि इंडेक्स स्कीम उन विशेष शेयरों में ही निवेश करती है जो किसी विशेष इंडेक्स का हिस्सा होते हैं। यदि इंडेक्स ऊपर जाता है तो निवेशक फायदे में रहते हैं।

Diversified fund

इसे डायवर्सिफाइड स्कीम भी कहते हैं। यदि किसी विशेष सेक्टर या इकनॉमी के किसी एक सेगमेंट में निवेश को लेकर नहीं रहना चाहते तो डायवर्सिफाइड स्कीम का विकल्प उपलब्ध होता है।

Open Ended and Close Ended

युनिट जारी करने के अनुसार दो प्रकार के होते हैं- ओपेन एंडेड फंड योजना के जीवनकाल में किसी भी समय यूनिट जारी किए जा सकते हैं या उनका भुगतान कर सकते हैं। क्लोज एंडेड फंड बोनस या राइट निर्गम को छोड़कर योजना के अंतर्गत कोई भी नया यूनिट जारी नहीं कर सकते हैं। इस ही कारण से ओपेन एंडेड योजना की इकाई पूंजी में शेयर की ही तरह उतार चढ़ाव हो सकते हैं, जबकि क्लोज एंडेड के मामले में ऐसा नहीं होता। ओपन एंडेड योजना में कभी भी प्रवेश लिया जा सकता है या उससे बाहर निकला जा सकता है और कई बार इनमें एक लॉक-इन पीरियड होता है, जिसके अंदर रीडेंपशन नहीं हो सकता, इसलिये इनमें प्रवेश के समय ही निश्चिंत हो जाना चाहिये। क्लोज एंडेड योजना में सब्सक्रिप्शन एक ही बार लिया जा सकता है और रीडेंपशन भी न्यूनतम तय समय सीमा के अंतराल पर ही हो सकता है। इस तरह क्लोज एंडेड स्कीम की तरलता (लिक्विडिटी) कम हो जाती है।

Large Cap and Mid Cap

अधिक जोखिम लेने की क्षमता वाले लोग स्मॉल या मिड कैप स्कीम का चुनाव कर सकते हैं। यह स्कीम अच्छी संभावनाओं वाली छोटी और मझोली कंपनियों में निवेश करती हैं। इनमें जोखिम अधिक होता है लेकिन इनमें अधिक रिटर्न देने की क्षमता होती है। शेयर बाजार में लंबी अवधि का निवेश लाभादायक होता है और अल्पावधि निवेश करने वालों के लिए जोखिम अधिक होता है। लार्ज कैप म्यूचुअल फंड में निवेश किसी ब्लूचिप कंपनी के स्टॉक में किया जाता है। इनमें निवेश सुरक्षित माना जाता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि इनके बारे में जानकारी हर जगह उपलब्ध होती है। मिड कैप म्यूचुअल फंड में निवेश मध्यम और छोटे आकार की कंपनियों में किया जाता है।

Balanced Fund

बैलेंस्ड फंड को हाइब्रिड फंड कहते हैं। यह कॉमन स्टॉक, प्रैफर्ड स्टॉक, बांड और अल्पावधि बांड होता है। यह फंड लाभादायक होते हैं, क्योंकि इनमें जोखिम कारक भी कम हो जाता है और बहुत हद तक पूंजी की सुरक्षा निश्चित होती है।

Growth Fund

ग्रोथ फंड की सहायता से अधिकतम फायदा प्राप्त करने का प्रयास किया जाता है। इनमें निवेश उन कंपनियों में किया जाता है जो बाजार में तेज प्रगति करती हैं। इन फंड्स में निवेश अधिक लाभ के लिए करते हैं और इस कारण से जोखिम अधिक होता है।

Dividend Fund

यदि कोई निवेशक डिविडेंड फंड में निवेश करता है| तो कंपनियों द्वारा समय-समय पर दिए जाने वाला डिविडेंड भी निवेशक को मिलता रहता है| यह नकद धनराशी निवेशक के खाते में जमा कर दी जाती है|

Value Fund

यह ऐसे फंड हैं जो सुरक्षा को वरीयता देते हैं। इनमें अपेक्षाकृत कम लाभ होता है, किन्तु हानि की संभावना बहुत कम होती है।

Money Market Fund

सामान्यत: मनी मार्केट सबसे सुरक्षित फंड माने जाते हैं। इनका मुख्य उद्देश्य निवेशित पूंजी सुरक्षित रखना होता है।

2022 के टॉप 10 म्यूचूअल फंड स्कीम | Top 10 Mutual fund schemes in 2022

  • Axis Bluechip Fund
  • Mirae Asset Large Cap Fund
  • Parag Parikh Long Term Equity Fund
  • UTI Flexi Cap Fund
  • Axis Midcap Fund
  • Kotak Emerging Equity Fund
  • Axis Small Cap Fund
  • SBI Small Cap Fund
  • SBI Equity Hybrid Fund
  • Mirae Asset Hybrid Equity Fund

अंत में, ‘सर्वश्रेष्ठ’ शब्द से शुरू होने वाली कोई भी खोज आपको सर्वोत्तम समाधान प्रदान करने की संभावना नहीं है। आपको हमेशा ऐसी योजना चुननी चाहिए जो आपके निवेश उद्देश्य, क्षितिज और जोखिम प्रोफ़ाइल से मेल खाती हो। यदि आप म्यूचुअल फंड की बुनियादी अवधारणाओं को नहीं समझते हैं या म्यूचुअल फंड और निवेश के लिए बिल्कुल नए हैं, तो आपको हमेशा म्यूचुअल फंड सलाहकार की मदद लेनी चाहिए।

ITR भरने का आख़िरी मौक़ा | ITR FILING LAST DATE 2022 | How to file ITR

0

What is the last date for filing ITR in  AY 2022-23 | वर्ष 2022-23 में आईटीआर दाखिल करने की अंतिम तिथि क्या है ?

2021-22 के लिए आयकर रिटर्न (ITR 2021-22) दाखिल करने की अंतिम तिथि 31 जुलाई, 2022 है। इसे अक्सर एक बोझिल काम माना जाता है। हालांकि पेनल्टी से बचने के लिए आईटीआर फाइल करना अनिवार्य है। अगर आप किसी टैक्स स्लैब में नहीं आते हैं तो भी रिटर्न फाइल करना सुनिश्चित करें।

ITR 2021-22: इन उच्च-मूल्य वाले लेनदेन को आपके रिटर्न में घोषित किया जाना चाहिए

हालांकि, आईटीआर में कुछ उच्च मूल्य के लेनदेन को घोषित करने की आवश्यकता होती है। ये लेनदेन आयकर (आई-टी) विभाग से विशेष ध्यान आकर्षित करते हैं। ऐसे लेनदेन पर एक नजर:

Cash withdrawal/ deposit | नकद निकासी / जमा

किसी भी बचत खाते में 10 लाख रुपये से अधिक की नकद जमा या निकासी का खुलासा आई-टी विभाग को किया जाना चाहिए। यह भी निर्दिष्ट किया जाना चाहिए कि ऐसा लेनदेन कुल या एक बार में किया गया था। आयकर विभाग ने चालू खाते के लिए यह सीमा 50 लाख रुपये निर्धारित की है।

Fixed deposits (FDs)

यदि किसी व्यक्ति की कुल FD 10 लाख रुपये से अधिक है, तो इसे ITR में घोषित किया जाना चाहिए।

Sale/ Purchase of immovable property | अचल संपत्ति की बिक्री / खरीद

विदेशी मुद्रा की बिक्री का खुलासा आयकर रिटर्न में किया जाना चाहिए, अगर करदाता को 10 लाख रुपये या उससे अधिक मिलते हैं।

How to file ITR online | ITR ऑनलाइन कैसे दाखिल करें |

ई-फाइलिंग पोर्टल पर पंजीकृत उपयोगकर्ताओं के लिए आईटीआर-1 सेवा की पूर्व-भरण और फाइलिंग उपलब्ध है। यह सेवा व्यक्तिगत करदाताओं को ई-फाइलिंग पोर्टल के माध्यम से आईटीआर-1 ऑनलाइन दाखिल करने में सक्षम बनाती है। इस उपयोगकर्ता पुस्तिका में ऑनलाइन मोड के माध्यम से आईटीआर-1 दाखिल करना शामिल है।

  • सबसे पहले पैन कार्ड के माध्यम से income tax  की site  पर रेजिस्टर करे।
  • पैन और आधार को लिंक करें।
  • कम से कम एक बैंक खाते को पूर्व-मान्य करें और इसे धनवापसी के लिए नामांकित करें ।
  • आधार / ई-फाइलिंग पोर्टल / आपके बैंक / एनएसडीएल / सीडीएसएल से जुड़ा वैध मोबाइल नंबर (ई-सत्यापन के लिए)।

फॉर्म एक नजर में

ITR-1 में पांच सेक्शन हैं जिन्हें सबमिट करने से पहले आपको भरना होगा और एक सारांश सेक्शन जहां आपको अपनी टैक्स गणना की समीक्षा करनी होगी। खंड इस प्रकार हैं:

  • व्यक्तिगत जानकारी
  • सकल कुल आय
  • कुल कटौती
  • कर चुकाया गया
  • कुल कर देयता

यहाँ ITR-1 के विभिन्न वर्गों का एक quick tour है

व्यक्तिगत जानकारी (Personal Information )

आईटीआर के व्यक्तिगत सूचना अनुभाग में, आपको पहले से भरे हुए डेटा को सत्यापित करने की आवश्यकता होती है जो आपके ई-फाइलिंग प्रोफाइल से स्वतः भर जाता है। आप अपने कुछ व्यक्तिगत डेटा को सीधे फ़ॉर्म में संपादित नहीं कर पाएंगे। हालांकि, आप अपने ई-फाइलिंग प्रोफाइल में जाकर जरूरी बदलाव कर सकते हैं। आप फॉर्म में अपने संपर्क विवरण, फाइलिंग प्रकार के विवरण और बैंक विवरण संपादित कर सकते हैं।कर चुकाया गया

कुल आय (Gross Total Income)

सकल कुल आय अनुभाग में, आपको पहले से भरी हुई जानकारी की समीक्षा करने और वेतन/पेंशन, गृह संपत्ति, और अन्य स्रोतों (जैसे ब्याज आय, पारिवारिक पेंशन, आदि) से अपने आय स्रोत के विवरण को सत्यापित करने की आवश्यकता है। आपकी छूट वाली आय, यदि कोई हो, सहित शेष/अतिरिक्त विवरण दर्ज करने की आवश्यकता है।

कुल कटोतियाँ (Total Deductions)

कुल कटौती अनुभाग में, आपको आयकर अधिनियम के अध्याय VI-A के तहत दावा की जाने वाली किसी भी कटौती को जोड़ने और सत्यापित करने की आवश्यकता है।

कर चुकाया गया(Tax Paid)

भुगतान किए गए कर अनुभाग में, आपको पिछले वर्ष में आपके द्वारा भुगतान किए गए करों को सत्यापित करना होगा। टैक्स विवरण में वेतन से टीडीएस/वेतन के अलावा भुगतानकर्ता, टीसीएस, अग्रिम कर और स्व-मूल्यांकन कर शामिल हैं।

Total Tax Liability

टोटल टैक्स लायबिलिटी सेक्शन में, आपको पहले भरे गए सेक्शन के अनुसार गणना की गई टैक्स लायबिलिटी की समीक्षा करनी होगी।

Note: For more details, refer to the instructions to file ITR issued by CBDT for AY 2021-22.

Credit Card , Debit Card Tokenisation Rule From 1 July 2022 in Hindi | Credit Card , Debit Card Tokenisation का नया नियम 1 जुलाई 2022 से लागू

0

Credit Card , Debit Card Tokenisation का नया नियम 1 जुलाई 2022 से लागू  | card Tokenization RBI new rule 2022

1 जुलाई 2022 से ऑनलाइन भुगतान में डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के नियम पूरे भारत में ग्राहकों के लिए बदल जाएंगे। भारतीय रिजर्व बैंक RBI क्रेडिट कार्ड और debit card Tokenisation नियम को लागू करने के लिए तैयार है,

 जिससे ऑनलाइन व्यापारियों को अपने सर्वर पर ग्राहक डेटा स्टोर करने की अनुमति नहीं दी जाएगी ताकि उनकी गोपनीयता की रक्षा की जा सके। इसमें डेबिट या क्रेडिट कार्ड नंबर, सीवीवी, कार्ड की समाप्ति तिथि और अन्य संवेदनशील जानकारी शामिल है।

 RBI ने घरेलू ऑनलाइन खरीद पर लागू कार्ड-ऑन-फाइल (सीओएफ) Token को अपनाने को अनिवार्य किया। देश भर में कार्ड टोकन को अपनाने की समय सीमा को 1 जनवरी से 1 जुलाई 2022 तक छह महीने के लिए बढ़ा दिया गया था, ताकि मौजूदा स्थिति से एक सहज बदलाव सुनिश्चित हो सके। 

What is Debit Card, Credit Card Tokenisation? 

 Tokenisation संवेदनशील डेटा को विशिष्ट पहचान प्रतीकों के साथ बदलने की प्रक्रिया है जो डेटा की सुरक्षा से समझौता किए बिना सभी आवश्यक जानकारी को बरकरार रखता है। RBI की वेबसाइट के अनुसार, ” Card Tokenisation वास्तविक Card details को” token “नामक एक कोड के साथ बदलने को संदर्भित करता है, जो हर कार्ड के लिए unique होगा।

token अनुरोधकर्ता (यानी वह इकाई जो ग्राहक से token के लिए अनुरोध स्वीकार करती है) एक कार्ड और इसे संबंधित टोकन जारी करने के लिए कार्ड नेटवर्क पर भेजता है) और डिवाइस (इसके बाद “पहचानित डिवाइस” के रूप में संदर्भित)।

  छोटे और मध्यम आकार के व्यवसायों के लिए क्रेडिट कार्ड और ई-कॉमर्स लेनदेन की सुरक्षा को बढ़ाने के लिए एक लोकप्रिय तरीका बन गया है, जबकि लागत और उद्योग के अनुपालन की जटिलता को कम करता है। card tokenisation से अब ग्राहकों का data  सुरक्षित रहेगा।

How to Tokenise Credit card and Debit card | Credit card और Debit card को Tokenise कैसे करे | How do I Tokenize my debit card?

  1. पहले उस website  या application  पर जाइए जहां पर आपको card की डिटेल सेव करनी है
  2.  चेकआउट पेज पर Credit/Debit Card को सलेक्ट करिए और cvv  नम्बर डालिए।

  3. “Secure your Card” or “Save Card as per RBI guidelines” पर क्लिक करिए।

  4. अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर पर प्राप्त ओटीपी दर्ज करें।

  5. हमारे कार्ड का विवरण अब सुरक्षित हैं।

    What if someone does not Secure/Tokenise their Card before July 1, 2022? | क्या होगा यदि कोई व्यक्ति 1 जुलाई, 2022 से पहले अपने कार्ड कोSecure/Tokenise नहीं करता ? 

    यदि कोई व्यक्ति अपने कार्ड को Secure/Tokenise नहीं करता तो उसके कार्ड का सारा डटा website  से हट जाएगा और उसे हर बार card  की डिटेल को डालना पड़ेगा, फ़िलहाल अभी ये नियम domestic ट्रैंज़ैक्शन पर ही लागू है।

    Is card tokenization mandatory | क्या कार्ड tokenization ज़रूरी है?

    card tokenization अभी mandatory  नहीं है लेकिन जो लोग ये सुविधा नहीं लेंगे उन्हें हर बार अपने कार्ड की डिटेल खुद ही डालनी पड़ेगी।

     अधिक जानकारी के लिए RBI का पूरा circular यहाँ जा कर देख सकते है।

    Card Tokenisation RBI circular

Stock Market Holiday 2022 India

1

List of holidays in Stock Market in year 2022

 SI.NO.

Holidays

Date Day
1                          Republic Day January 26,2022 Wednesday
2                         Mahashivratri March 01,2022 Tuesday
3                             Holi March 18,2022 Friday
4 Mahavir Jayanti / Dr.Baba Saheb Ambedkar Jayanti April 14,2022 Thursday
5                         Good Friday April 15,2022 Friday
6                     Id-Ul-Fitr (Ramzan Id) May 03,2022 Tuesday
7                         Muharram August 09,2022 Tuesday
8                         Independence Day August 15,2022 Monday
9                         Ganesh Chaturthi August 31,2022 Wednesday
10                         Dussehra October 05,2022 Wednesday
11                         Diwali * Laxmi Pujan October 24,2022 Monday
12                         Diwali Balipratipada October 26,2022 Wednesday
13                         Gurunanak Jayanti November 08,2022 Tuesday

Presidential Election | एनडीए की राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू

0

Presidential Election 2022 | द्रोपदी मुर्मू

भाजपा के राष्ट्रीय नेता जेपी नड्डा ने दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन में आधिकारिक रूप से घोषणा की कि द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की ओर से राष्ट्रपति चुनाव लड़ रही हैं।

 

 

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बीजेपी संसदीय समिति की दिल्ली में बीजेपी मुख्यालय में बैठक हुई. भाजपा के राष्ट्रीय नेता जेपी नड्डा , केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, अमित शाह और नितिन गडकरी भी मौजूद थे।

 


कौन है द्रौपदी मुर्मू है? | Who is Draupadi Murmu ?

 द्रौपदी मुर्मू ओडिशा की रहने वाली हैं।

द्रौपदी मुर्मू का जन्म 20 जून 1958 को ओडिशा के मयूरभंज जिले के बैदापोसी गांव में हुआ था। उनके पिता का नाम बिरंची नारायण टुडू है।

वह ओडिशा राज्य के संताल जनजाति के नेता हैं। इस राज्य में बीजेपी का बीजू जनता दल के साथ गठबंधन है. गठबंधन में रहते हुए, उन्होंने उप मंत्री के रूप में कार्य किया। मुर्मू ने एक शिक्षक के रूप में अपने करियर की शुरुआत की थी और फिर ओडिशा की राजनीति में प्रवेश किया।

वह झारखंड के पूर्व राज्यपाल भी हैं। पहली बार किसी आदिवासी व्यक्ति को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित किया गया है। उल्लेखनीय है कि द्रौपदी मुर्मू अगर जीतती हैं तो वह भारत की पहली आदिवासी राष्ट्रपति होंगी।

विवादित बयान के मामले में BJP ने किया NUPUR SHARMA को सस्पेंड किया, NAVEEN JINDAL को पार्टी से निकाला गया

0

विवादित बयान पर लगातार हो रहे विरोध के बाद बीजेपी ने अपने नेताओं पर कार्रवाई की है। इससे पहले भाजपा ने LETTER जारी कर ये सफ़ाई दी थी की पार्टी सभी धर्मों का सम्मान करती है। न्यूज एजेंसी ANI की खबर के अनुसार पार्टी ने नुपुर शर्मा को सस्पेंड कर दिया है। वहीं नवीन कुमार जिंदल को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है.बीजेपी के दिल्ली प्रदेश मीडिया प्रमुख नवीन कुमार जिंदल को पार्टी की तरफ से जारी निष्कासन पत्र में लिखा गया है कि आपने सोशल मीडिया पर सांप्रदायिक सदभावना भड़काने वाले विचार प्रकट किए हैं।यह भारतीय जनता पार्टी के मूल विचार के खिलाफ है।वहीं नुपुर शर्मा को लेकर जारी पत्र में लिखा गया है कि आपने पार्टी की सोच के विपरीत विचार व्यक्त किए हैं. जो कि पार्टी के संविधान के नियम 10 (a)के विरूद्ध है। पूरे मामले की जब तक जांच हो रही तब तक आपको पार्टी से निलंबित किया जाता है।

Citing her views as “contrary to the Party’s position on various matters,” BJP suspends Nupur Sharma from the party with immediate effect pic.twitter.com/txQ9CpvqH4

— ANI (@ANI) June 5, 2022

 

        क्यों हुई कार्रवाई? 

      नूपुर शर्मा ने एक टीवी डिबेट के दौरान मुहम्मद पैग़म्बर के खिलाफ भड़काऊ बयान दे दिया था जिसका   विरोध लगातार हो रहा है जिसके चलते पार्टी ने यह कार्यवाही करी और जिंदल ने कथित रूप से देशहित के ख़िलाफ़ ट्वीट किया था जिसके कारण उन्हें पार्टी से निकाला गया। दोनो  नेताओ के ख़िलाफ़ social media पर भारी विरोध होरहा है कुछ खाड़ी देशों में भारत में बने सामान  का बहिस्कार करने की माँग करी जा रही है।

    

     कौन है नूपुर शर्मा ?

    नूपुर शर्मा अभी तक बीजेपी की राष्ट्रीय प्रवक्ता थी नूपुर शर्मा ने पहली बार 2015 में दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी के प्रमुख नेता अरविंद केजरीवाल के खिलाफ चुनाव लड़ा था हालांकि इस चुनाव में वह बुरी तरह से हार गई थी।

वह दिल्ली यूनिवर्सिटी की छात्र संघ की अध्यक्ष भी रह चुकी है ,उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से पढ़ाई की है ।

अर्थगुरु | Sukanya Samriddhi Yojana Information 2022 | सुकन्या समृद्धि योजना 2022

0
सुकन्या समृद्धि योजना का उद्देश्य देश में बालिकाओं की बेहतरी करना है। प्रत्येक परिवार में बालिकाओं को बचत का साधन प्रदान करने के लिए सुकन्या समृद्धि योजना शुरू की गई है। SSY का कार्यकाल खाता खोलने की तारीख से 21 वर्ष या लड़की के 18 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद उसकी शादी तक है।

Sukanya Samriddhi Yojana Information

Interest rate
7.60% p.a.
Investment Amount
Minimum – Rs.250, Maximum Rs.1.5 lakh p.a.
Maturity Amount
Depends on the invested amount
Maturity Period
21 years
सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) योजना को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान के तहत शुरू किया गया था, जिसका मुख्य उद्देश्य एक लड़की का भविष्य सुरक्षित करना था। SSY योजना के मुख्य लाभों का उल्लेख नीचे किया गया है:
  •     ब्याज दर 8.4% से घटाकर 7.6% की गई
  •     1.5 लाख रुपये तक के कर लाभ
  •     अकाउंट ट्रांसफर किया जा सकता है
योजना के लिए किए गए निवेश का उपयोग बालिकाओं की शादी और शिक्षा के लिए किया जा सकता है। SSY खाता बैंकों और डाकघरों में खोला जा सकता है। आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80C के तहत, योजना के लिए किए गए योगदान के लिए 1.5 लाख रुपये तक का कर लाभ प्रदान किया जाता है।
वर्तमान में, SSY योजना की ब्याज दर 8.4% से घटाकर 7.6% कर दी गई है और इसे वार्षिक आधार पर संयोजित किया जाता है। योजना की अवधि पूरी होने के बाद या लड़की के अनिवासी भारतीय (एनआरआई) या गैरनागरिक बनने पर ब्याज देय नहीं है। ब्याज दर सरकार द्वारा तय की जाती है और तिमाही आधार पर निर्धारित की जाती है।
योजना द्वारा दी जाने वाली ब्याज दर का उल्लेख नीचे दी गई तालिका में किया गया है:
Duration
Rate of interest (%)
April 2020 onwards
7.6
1 January 2019 – 31 March 2019
8.5
1 October 2018 – 31 December 2018
8.5
1 July 2018 – 30 September 2018
8.1
1 April 2018 – 30 June 2018
8.1
1 January 2018 – 31 March 2018
8.1
1 July 2017 – 31 December 2017
8.3
1 October 2016 – 31 December 2016
8.5
1 July 2016 – 30 September 2016
8.6
1 April 2016 – 30 June 2016
8.6
From 1 April 2015
9.2
From 1 April 2014
9.1
यदि सुकन्या समृद्धि योजना के लिए कम या अधिक राशि का भुगतान किया जाता है तो क्या होगा?

  • कम राशि: यदि किसी वित्तीय वर्ष में न्यूनतम 500 रुपये का भुगतान नहीं किया जाता है, तो खाते को डिफ़ॉल्ट माना जाएगा। हालांकि, 50 रुपये का जुर्माना देकर खाते को सक्रिय स्थिति में वापस लाया जा सकता है।
  • अतिरिक्त राशि: 1.5 लाख रुपये से अधिक की किसी भी जमा राशि के लिए कोई ब्याज उत्पन्न नहीं होता है। जमाकर्ता किसी भी समय अतिरिक्त राशि निकाल सकता है।
सुकन्या समृद्धि योजना निकासी नियम
SSY खाते से निकासी के नियम नीचे दिए गए हैं:
  • एक बार खाते की अवधि पूरी हो जाने के बाद, ब्याज सहित खाते में उपलब्ध पूरी राशि बालिका द्वारा निकाली जा सकती है। हालाँकि, नीचे दिए गए दस्तावेज़ प्रस्तुत किए जाने चाहिए:
  •         राशि की निकासी के लिए आवेदन पत्र।
  •         आईडी प्रूफ
  •         पते का सबूत
  •         नागरिकता दस्तावेज
  • उच्च शिक्षा के प्रयोजनों के लिए निकासी की अनुमति है यदि बालिका ने 18 वर्ष की आयु प्राप्त कर ली है और 10 वीं कक्षा पूरी कर ली है। हालांकि, प्रवेश के समय लगाए जाने वाले शुल्क या किसी अन्य शुल्क के लिए धन का उपयोग किया जाना चाहिए।
  • निकासी के लिए आवेदन करते समय विश्वविद्यालय या कॉलेज में प्रवेश के साथसाथ शुल्क रसीद जैसे दस्तावेज जमा करने होंगे।
  • अधिकतम राशि जो निकाली जा सकती है, वह उस राशि का 50% है जो पिछले वर्ष में उपलब्ध है। राशि को 5 किश्तों में या एकमुश्त निकाला जा सकता है।
SSY खाते से समय से पहले निकासी के नियम
खाते को समय से पहले बंद करने की अनुमति देने वाले नियम नीचे दिए गए हैं:
  • एक बार जब लड़की 18 वर्ष की हो जाती है और उसकी शादी हो जाती है, तो SSY समय से पहले निकासी की अनुमति है। हालांकि, लाभ प्राप्त करने के लिए शादी से कम से कम एक महीने पहले और शादी के 3 महीने बाद आवेदन जमा करना होगा। दस्तावेज जो लड़की की उम्र निर्धारित करते हैं, उन्हें भी प्रदान किया जाना चाहिए।
  • यदि बालिका गैरनागरिक या अनिवासी बन जाती है, तो खाता बंद माना जाएगा। स्थिति में इस तरह के किसी भी परिवर्तन की सूचना अभिभावक या बालिका द्वारा स्थिति में परिवर्तन के एक महीने के भीतर दी जानी चाहिए।
  • यदि बालिका की मृत्यु हो जाती है, तो खाते में उपलब्ध शेष राशि को अभिभावक द्वारा निकाला जा सकता है। हालांकि, मृत्यु प्रमाण पत्र जमा करना होगा।
  • यदि खाता 5 वर्ष या उससे अधिक के लिए खोला गया है, और बैंक या डाकघर को लगता है कि खाते को जारी रखने से बालिकाओं को कठिनाई हो रही है, तो अभिभावक या बालिका समय से पहले बंद करने का विकल्प चुन सकती है।
  • खाता बंद करने की अनुमति अन्य कारणों से भी दी जाएगी, लेकिन योगदान से अर्जित ब्याज वही होगा जो डाकघरों द्वारा प्रदान की जाने वाली ब्याज दरों के समान होगा।
सुकन्या समृद्धि योजना कर लाभ
सुकन्या समृद्धि योजना कर लाभ नीचे दिए गए हैं:
  • आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80C के तहत, योजना के लिए किए गए योगदान के लिए 1.5 लाख रुपये तक का कर लाभ प्रदान किया जाता है।
  • जो ब्याज राशि उत्पन्न होती है वह भी कर से मुक्त होती है।
  • परिपक्वता राशि या निकासी राशि के लिए कर लाभ भी प्रदान किए जाते हैं।
सुकन्या समृद्धि योजना पात्रता
सुकन्या समृद्धि योजना खाता पात्रता नीचे उल्लिखित है:
  • मातापिता या कानूनी अभिभावक बालिका की ओर से 10 वर्ष की आयु तक SSY खाता खोल सकते हैं।
  • बालिका निवासी भारतीय होनी चाहिए।
  • एक परिवार में दो लड़कियों के लिए अधिकतम दो खाते खोले जा सकते हैं।
  • जुड़वां लड़कियों के मामले में तीसरा SSY खाता खोला जा सकता है।
SSY खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज
SSY खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज नीचे दिए गए हैं:
 
 
  • SSY खाता खोलने का फॉर्म।
  • खाता खोलते समय बालिका का जन्म प्रमाण पत्र जमा करना होगा।
  • खाता खोलते समय जमाकर्ता का आईडी प्रूफ और एड्रेस प्रूफ जमा करना होगा।
  • जन्म के एक आदेश के तहत कई बच्चों के जन्म के मामले में एक चिकित्सा प्रमाण पत्र जमा करना होगा।
  • कोई अन्य दस्तावेज जो बैंक या डाकघर द्वारा अनुरोध किया जाता है।
सुकन्या योजना में interest  कब लगता है?
सुकन्या योजना में interest वर्ष में एक बार ही लगता है जोकी हर महीने की 5 तारीख़ से लेकर महीने के अंत में जो भी कम बैलेन्स होता है उसपर उसकी calculation  होती है
 
और पढ़े-